S L kashyap दिसंबर 12, 2020 0

आज के लिए डे ट्रेडिंग गाइड: आज खरीदने या बेचने के लिए 4 स्टॉक — 12 दिसंबर

आज के लिए डे ट्रेडिंग गाइड: एक सीमित दायरे में समेकित व्यापार के बाद, भारतीय शेयरों में शुक्रवार के सत्र में बिकवाली का दबाव देखा गया। हालांकि, 50-स्टॉक इंडेक्स निफ्टी ने साल-दर-तारीख (YTD) घंटे में सकारात्मक रिटर्न दिया है। यदि निफ्टी आगामी दिसंबर सत्रों में उन लाभों को नहीं छोड़ता है, तो सूचकांक लगातार 7वें वर्ष अपने निवेशकों को सकारात्मक रिटर्न दे सकता है – 22 अप्रैल 1996 को निफ्टी की स्थापना के बाद से अब तक की सबसे लंबी लकीर।

बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, निफ्टी आईटी इंडेक्स ने अपने महत्वपूर्ण समर्थन को पार कर लिया है, जबकि बैंकिंग और एफएमसीजी इंडेक्स अभी भी मजबूती दिखा रहे हैं और तेजी जारी रहने का संकेत दे रहे हैं। उनका कहना था कि वीकेंड सेशन में बिकवाली को सिर्फ मुनाफावसूली के तौर पर देखा जाना चाहिए।

शेयर बाजार के लिए आज का दिन ट्रेडिंग गाइड

“पिछले एक हफ्ते में, निफ्टी ने 1 दिसंबर को पोस्ट किए गए उच्च स्तर से कुछ सुधार देखा है। अगर हम आंकड़ों पर गौर करें, तो यह सुधार मुख्य रूप से मुनाफावसूली के कारण लगता है, जहां हमने इंडेक्स फ्यूचर्स सेगमेंट में एफआईआई द्वारा लंबी स्थिति को देखा है। इस अवधि में उनका लॉन्ग शॉर्ट रेशियो लगभग 76 प्रतिशत से घटकर 60 प्रतिशत हो गया है। हालांकि, हमने कोई शॉर्ट फॉर्मेशन नहीं देखा है और निफ्टी इंडेक्स भी अपने महत्वपूर्ण 20-दिवसीय ईएमए समर्थन से नीचे बंद नहीं हुआ है। निफ्टी पर आरएसआई ऑसिलेटर चार्ट ने एक सुधारात्मक चरण का संकेत देते हुए एक नकारात्मक क्रॉसओवर दिया है, लेकिन बैंक निफ्टी इंडेक्स पर रीडिंग अभी भी सकारात्मक बनी हुई है, हालांकि एक ओवरबॉट जोन में है,” रुचित जैन, 5paisa.com पर लीड रिसर्च ने कहा।

“इस सप्ताह के लिए निफ्टी के लिए तत्काल समर्थन 18550-18380 की सीमा में रखा गया है और यदि यह समर्थन सीमा टूट जाती है, तो हम अल्पावधि में 18100 की ओर मूल्य वार सुधारात्मक चरण देख सकते हैं। फ्लिपसाइड पर, यदि निफ्टी प्रबंधन करता है इस समर्थन को बनाए रखें तो 18650 और 18730 की ओर पुलबैक देखा जा सकता है,” 5paisa.com के रुचित जैन ने कहा।

डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए

आज के लिए इंट्राडे शेयरों पर, शेयर बाजार के विशेषज्ञ – रवि सिंह, वाइस प्रेसिडेंट और हेड ऑफ रिसर्च, शेयर इंडिया और मनोज डालमिया, प्रवीण इक्विटीज के संस्थापक और निदेशक – ने आज खरीदने या बेचने के लिए 4 शेयरों की सिफारिश की।

आज के लिए रवि सिंह का इंट्रा डे स्टॉक

1]भारतीय स्टेट बैंक या एसबीआई: पर खरीदें ₹ 612, लक्ष्य ₹ 622, स्टॉप लॉस ₹ 603

2]बीपीसीएल: पर खरीदें ₹ 338, लक्ष्य ₹ 345, स्टॉप लॉस ₹ 335

मनोज डालमिया के शेयर खरीदें या बेचें

3]ओएनजीसी: पर बेचें ₹ 139.75, लक्ष्य ₹ 137.80, स्टॉप लॉस ₹ 140.75

4]एचडीएफसी बैंक: पर खरीदें ₹ 1637, लक्ष्य ₹ 1656, स्टॉप लॉस ₹ 1630.

अस्वीकरण: ऊपर दिए गए विचार और सिफारिशें व्यक्तिगत विश्लेषकों या ब्रोकिंग कंपनियों के हैं, मिंट के नहीं। हम निवेशकों को कुछ भी लेने से पहले प्रमाणित विशेषज्ञों से जांच करने की सलाह देते हैं निवेश निर्णय।


अपने भीतर के निवेशक को जानें
क्या आपमें फौलाद की नसें हैं या आप अपने निवेशों को लेकर अनिद्रा के शिकार हैं? आइए आपके निवेश दृष्टिकोण को परिभाषित करें।

लाइव मिंट पर सभी बिजनेस न्यूज, मार्केट न्यूज, ब्रेकिंग न्यूज इवेंट्स और लेटेस्ट न्यूज अपडेट को कैच करें। दैनिक बाज़ार अपडेट प्राप्त करने के लिए मिंट न्यूज़ ऐप डाउनलोड करें।

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा स्टॉक कैसे चुने

S L kashyap दिसंबर 12, 2020 0

इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसा कमाने के लिए सही स्टॉक का चुनाव जरूरी है शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग का दौर चल रहा है इसीलिए आपकी कमाई इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए चुने गए शेयरों पर निर्भर करती है इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयरों का चयन बड़ी ही सावधानी से करना चाहिए जैसे की कंपनी की बैलेंस शीट , ओवर वेट शेयर , खबरों के दम पर बढ़ने वाले शेयर इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयरों का चुनाव करतें समय इन बातो का ध्यान रखना चहिए।

शेयर मार्केट से इंट्राडे ट्रेडिंग से कमाई करने के लिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग की जानकारी हासिल करनी होगी जिन शेयरों में आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने जा रहे हैं उन शेयरों पर पहले से नजर बनाए रखें सही समय का इंतजार करना होगा कल के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग की रणनीति आज ही बनानी होगी सही स्टॉक के चुनाव के लिए पेपर वर्क , न्यूज़ चैनल, कंपनी का लेखा-जोखा, इंट्राडे चार्ट , आदि सभी बिंदुओं पर नजर रखनी होगी

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ऐसे शेयरों का चुनाव करें जिन शेयरों में उतार-चढ़ाव अधिक रहता हो और उस स्टॉक के उतार-चढ़ाव से आप अच्छी तरह से वाकिफ हो इंट्राडे ट्रेडिंग भी ऐसे ही स्टॉक को अच्छा माना जाता है

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा स्टॉक कैसे चुने
इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा स्टॉक कैसे चुने

इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला

1 जरूरी नहीं है कि शेयर खरीदकर भाव बढ़ने पर बेचा जाए इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसे कमाने के लिए यदि मार्केट में दबाव दिखता हो तो शेयर को पहले बेचकर खरीदना भी आना चाहिए दोनों तरह से ट्रेडिंग करना एक दिवसीय व्यापार में बहुत ही महत्वपूर्ण है.

2 यदि आपको ट्रेडिंग करने के लिए समय ना हो तो इंट्राडे ट्रेडिंग ना करें क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग समय का बहुत ही महत्व रहता है एक क्षण ऐसा रहता है जब आपको प्रॉफिट दिखता है और अगले ही पल नुकसान होने लगता है इसलिए यदि आपके पास ट्रेडिंग करने का समय हो तो शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग ना करें

3 निफ्टी और सेंसेक्स इंट्राडे चार्ट पर नजर बनाए रखें और ग्लोबल स्टॉक मार्केट को भी देखते रहे निफ़्टी या सेंसेक्स कब बढ़ेगा या गिरेगा ग्लोबल स्टॉक मार्केट को देखते रहते रहने से इस बात का सही अंदाजा हो जाता है

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा स्टॉक कैसे चुने

उपयुक्त इंट्राडे टिप्स आजमा कर आप स्टॉक मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कुछ महत्वपूर्ण टूल्स
यदि आप स्टॉक मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करने की सोच रहे हैं या कर रहे हैं तो ब्रोकर के द्वारा ऑनलाइन प्रदान किए गए टूल्स का इस्तेमाल अवश्य करें

  1. भारती एयरटेल
  2. टाटा स्टील
  3. आईसीआईसीआई बैंक
  4. बजाज फाइनेंस
  5. एनटीपीसी

कल के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग स्टॉक

कल के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग स्टॉक

बैंक निफ्टी में भी ट्रेडिंग कर के आप अच्छी कमाई कर सकते हैं अन्य शेयरों की अपेक्षा बैंक निफ़्टी में अत्याधिक उतार-चढ़ाव रहता है इसलिए प्रॉफिट के साथ-साथ नुकसान की भी संभावनाएं अधिक रहती है बैक निफ़्टी में ट्रेडिंग करने के लिए आपको बैंक निफ्टी की चाल और बैंकिंग शेयरों में उतार-चढ़ाव को पहचानने की कला आनी चाहिए

( how to choose the best stock for intraday trading )
जिस शेयरों को आप लंबे समय से देखते आ रहे हैं जिस शेयरों में आप अक्सर सौदा करते रहते हैं. जिस शेयरों में होने वाले उतार-चढ़ाव से आप भली-भांति परिचित हैं और आपको विश्वास है इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सिर्फ ऐसे ही शेयर का चुनाव करें

Intraday Trading क्या है? | इंट्राडे ट्रेडिंग डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए में प्रॉफिट कैसे कमा सकते हैं?

Intraday Trading kya hai

दोस्तों आप में से बहुत से लोग स्टॉक मार्केट में शेयर्स को खरीदते और बेचते होंगे मतलब कि ट्रेडिंग का काम करते होंगे ट्रेडिंग कई तरह की होती है इनमे से एक इंट्राडे ट्रेडिंग होती है लेकिन क्या आपको पता है कि इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होती है और डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे होती है अगर नही, तो आइये आज हम आपको इंट्राडे ट्रेडिंग से रिलेटेड पूरी जानकारी लेते है तो जो कैंडिडेट इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में पूरी जानकारी चाहते है वो हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरुर पढ़े.

Intraday Trading kya hai

Table of Contents

Intraday ट्रेडिंग क्या होती है (What is Intraday Trading in Hindi)

जब कोई ट्रेडर शेयर मार्केट से शेयर्स को एक ही दिन में कम दाम में खरीद कर उसी दिन उसे ज्यादा दामों में बेच देता है तो उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहते है. मतलब कि शेयर मार्किट में एक ही दिन के अन्दर शेयर को कम दाम पर खरीद कर ज्यादा दाम पे बेच कर प्रॉफिट लेने को इंट्रा डे ट्रेडिंग कहा जाता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको डिमैट एकाउंट की जरूरत नही पड़ती है इसके लिए सिर्फ आपको एक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करे?

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको Trading Account की जरुरत होती है क्योंकि आप बिना ट्रेडिंग अकाउंट के ट्रेडिंग नहीं कर सकते. इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको डिमैट अकाउंट की जरूरत नही होती है क्युकी इसमें आपको शेयर को होल्ड करके रखना नही होता है उसी दिन शेयर्स को खरीदना और बेचना होता है, जब आपको शेयर्स को होल्ड कर रखना होता है तब डिमैट अकाउंट की जरूरत होती है.

इंट्राडे ट्रेडिंग में प्रॉफिट कैसे कमा सकते हैं?

इसका सबसे अच्छा उदाहरण आप 1 अगस्त के बिज़नस में देख सकते हैं आज एयरटेल में निवेश करने वाले काफी आगे जा चुके है और शेयर में 5 फीसदी से ज्यादा की ग्रोथ मिली है, दरअसल आज के टाइम में एजीआर इश्यू पर निवेशकों की नजर थी. सुप्रीम कोर्ट ने एजीआर बकाया चुकाने के लिए टेलिकॉम कंपनियों को 10 साल का समय दिया है, जिसके बाद एयरटेल में 5 फीसदी की तेजी आई है और ऐसे ट्रेड का ध्यान रखना इंट्राडे या फिर डे ट्रेडर्स के लिए काफी जरूरी होता है.

एक्सपर्ट का मानना ये है कि शेयर मार्केट का ज्यादातर बिज़नस इंट्राडे ट्रेडिंग का ही होता है लेकिन फिर भी सावधानी के साथ ही इस बिज़नस करना बहत जरूरी है शेयर्स को खरीदने से पहले आपको मार्केट के ट्रेंड के बारे में जानना जरूरी होता है आपको मार्केट के ट्रेंड के खिलाफ न जाएं क्युकी ऐसा करने से आपको ट्रेडिंग बिज़नस में नुकसान हो सकता है. शेयर खरीदने के पहले शेयर्स का मूल्य तय कर लेना है और पूरी जानकारी लेने के बाद ही शेयर्स को खरीदना है.

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कितने पैसों की जरूरत पड़ती है?

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते है तो इसमें आप किसी शेयर में जितनी भी रकम चाहे लगा सकते है शेयर मार्केट का एक रूल होता है कि इसमें जिस दिन शेयर खरीदा जाता है उसी दिन पूरा पैसा नहीं देना होता है. नियम के अनुसार जिस दिन शेयर खरीदा जाता है उसके 2 ट्रेडिंग दिनों के बाद आपको पूरा पैसा देना होता है स्टार्टिंग में आपको शेयर के मूल्य का 30 फीसदी रकम का निवेश करना होता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स –

एक सफल इंट्राडे ट्रेडर बनने के लिए आपको इन कुछ जरुरी बातो को ध्यान रखना है-

  • इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको खरीदे गये शेयर्स को कभी होल्ड करके नही रखना है.
  • जब भी आप शेयर्स को खरीदे तो कभी भी एक ही शेयर पर बार बार ट्रेडिंग न करे .
  • अगर किसी दिन आपको ट्रेडिंग में मुनाफा ज्यादा हो तो उस दिन को लकी डे समझ कर ज्यादा ट्रेडिंग नही करना है.
  • कभी भी आपको ट्रेडिंग में एक साथ ज्यादा पैसा नही लगाना है.
  • अगर आप ट्रेडिंग का काम करते है तो कभी भी किसी भी व्यक्ति की सलाह लेकर ट्रेडिंग न करे अपना खुद का रिसर्च करने के बाद ही ट्रेडिंग करे.
  • अगर कोई कंपनी बंद है तो उसके शेयर्स न खरीदे, मतलब कि बंद हुई कंपनी के शेयर्स आपको नही खरीदना है.

इसे भी पढ़े?

आज आपने क्या सीखा?

हमे उम्मीद है कि हमारा ये (Intraday Trading kya hai) आर्टिकल आपको काफी पसन्द आया होगा और आपके लिए काफी यूजफुल भी होगा क्युकी इसमे हमने आपको इंट्राडे ट्रेडिंग से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है.

हमारी ये (Intraday Trading kya hai) जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और जो लोग इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते है उनके साथ भी जरुर शेयर कीजियेगा.

आज दिन में शेयर बाजार में कमाई वाले 20 शेयर

Stock market top picks for intraday : Seedha Sauda में हर रोज़ जानें Intraday में Best कमाई वाले शेयर्स जिसमें निवेश करने से आपको Intraday में अच्छी कमाई का मौका मिलेगा.डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए

Seedha Sauda में हर रोज़ जानें Intraday में Best कमाई वाले शेयर्स जिसमें निवेश करने से आपको Intraday में होंगे बेहतरीन फायदें. जानिए Neeraj Bajpai के हर डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए दिन कौन से है नए Top 20 Stocks. देखें पूरी वीडियो और बनाएं कमाई की रणनीति.

शेयरों में जोखिम को कम करने और प्रॉफिट बुक करने के लिए स्टॉप लॉस और टारगेट का काफी इस्तेमाल होता है. स्टॉप लॉस और टारगेट का ज्यादातर इस्तेमाल इंट्राडे ट्रेडिंग में होता है, लेकिन अगर आप लॉन्ग टर्म निवेश कर रहे हैं तो फिर उसके लिए इसका कोई बहुत ज्यादा महत्व नहीं है. स्टॉप-लॉस आपके नुकसान को सीमित रखता है जबकि टारगेट आपके प्रॉफिट को सीमित रखता है. स्टॉप लॉस का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव के दौर में आप बड़े नुकसान से बच सकें. टारगेट का इस्तेमाल इसलिए होता है ताकि जो प्रॉफिट हो रहा है वो नुकसान में या कम न हो जाए. तो चलिए स्टॉप लॉस और टारगेट को विस्तार से समझते हैं.

जैसा ही ऊपर हमने बताया है कि स्टॉप लॉस का इस्तेमाल नुकसान को सीमित करने के लिए किया जाता है. इसे एक उदाहरण से समझते है. मान लीजिए आपने इंट्राडे के लिए किसी कंपनी के 100 शेयर 100 रुपए के भाव पर खरीदे. यानी 10,000 रुपए का निवेश आपने किया. आपने सोचा की शेयर की कीमत बढ़ेगी और आप अच्छा खासा मुनाफा कमा लेंगे. लेकिन हुआ कुछ उल्टा और शेयर की कीमत बढ़ने के बजाय घटकर 90 रुपए हो गई. यानी आपको एक शेयर पर 10 रुपए के हिसाब से 1000 रुपए का घाटा होने लगा. मार्केट में इस तरह के बदलाव इतनी तेजी से होते है कि की बार ट्रेडर को इसका पता ही नहीं चलता.

अब आपके पास दो ऑप्शन है या तो इन शेयरों को होल्ड कर आने वाले दिनों में कीमत बढ़ने का इंतजार किया जाए या घाटा बुक किया जाए. ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए ही स्टॉपलॉस काम आता है. ये कैसे काम करता है समझते है. स्टॉपलॉस को आप शेयर खरीदने के तुरंत बाद ही लगा सकते हैं. ऊपर दिए उदाहरण में ट्रेडर को 10 रुपए का नुकसान हो रहा था लेकिन अगर उसने स्टॉपलॉस लगाया होता तो नुकसान सीमित हो सकता था. स्टॉपलॉस वह मूल्य होता है जिसे लगाने पर आपके शेयर डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए उस मूल्य पर ऑटोमेटिक बिक जाते हैं. इसे आप अपनी नुकसान की क्षमता और टेक्निकल एनालिसिस के आधार पर लगा सकते हैं.

यानी ट्रेडर ने अगर 100 रुपए के भाव पर शेयर खरीदने के बाद नीचे की तरफ 98 रुपए या 95 रुपए जो भी स्टॉपलॉस लगाया होता तो उसके शेयर स्टॉपलॉस मूल्य पर अपने आप बिक जाते और उसे घाटा कम होता. अगर उसने 98 रुपए पर इसे लगाया होता तो जहां पहले 10 रुपए प्रति शेयर का नुकसान हो रहा था वो 2 रुपए तक सीमित हो जाता. वहीं अगर स्टॉपलॉस 95 रुपए का होता तो घाटा 5 रुपए प्रति शेयर तक सीमित हो जाता. यानी इससे साफ है कि स्टॉप लॉस प्राइस पर शेयर बेच देने से आप बड़े नुकसान से बच जाते हैं. वहीं अगर आप शॉर्ट सेलिंग करते हैं डे ट्रेडिंग स्टॉक आज खरीदने के लिए यानी पहले शेयर को बेचते हैं और बाद में खरीदते हैं तो भी स्टॉपलॉस लगाया जा सकता है.

टारगेट का मतलब लक्ष्य. इसका इस्तेमाल प्रॉफिट बुकिंग के लिए होता है. इसे भी एक उदाहरण से समझते हैं. मान लीजिए आपने इंट्राडे के लिए किसी कंपनी के 100 शेयर 100 रुपए के भाव पर खरीदे. यानी 10,000 रुपए का निवेश आपने किया. अब ये शेयर बढ़कर 105 रुपए पर पहुंच गया, लेकिन कुछ देर बाद वापस ये शेयर 100 रुपए पर आ गया या उससे नीचे 99 रुपए पर आ गया. जब ये शेयर 105 रुपए पर गया था तब आप इसे किसी कारण से बेच नहीं पाए. यानी आप प्रॉफिट बुक नहीं कर पाए. अब आपको उसी शेयर के नीचे आ जाने के कारण नुकसान हो रहा है. ऐसी स्थिति से बचने के लिए ही टारगेट काम आता है.

टारगेट में आप पहले से ही आपके खरीदे शेयर को बेचने का ऑर्डर लगा सकते है. यानी अगर आपको लगता है कि ये शेयर 105 रुपए तक जा सकता है तो आप 105 रुपए का टारगेट प्राइस के लिए सेलिंग ऑर्डर लगा सकते हैं. जब शेयर उस भाव पर पहुंचेगा तो अपने आप ही वो बिक जाएगा और प्रॉफिट बुक हो जाएगा.

: CNBC TV18 हिंदी पर दी गई सलाह या विचार एक्सपर्ट/ब्रोकरेज फर्म के अपने निजी विचार हैं. वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदायी नहीं है. निवेश से पहले आप अपने वित्तीय सलाहकार यानी सर्टिफाइड एक्सपर्ट की राय जरूर लें.

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 689